अखिलेश सरकार का पर्दाफाश।ज़रूर पढ़ें।

Posted on Posted in Politics
उत्तर प्रदेश में पिछले 5 वर्षों से समाजवादी पार्टी की सरकार है, समाजवादी पार्टी की सरकार को मुसलमानों की सरकार बोला जाता है,और सपा में ज्यादातर विधायक मुस्लिम ही है। उत्तर प्रदेश की आबादी करीब 20 करोड़ इन में मुसलमानों की आबादी करीब 19 प्रतिशत है।
 
यह तो सबको पता है मुसलमानों के ज्यादातर वोट समाजवादी पार्टी को ही मिलते हैं और समाजवादी पार्टी मुसलमानों के लिए हिंदुओं को दरकिनार करती रही है, मुलायम सिंह यादव ने मुसलमानों को खुश करने के लिए निर्दोष कारसेवकों पर गोली चलवाई थी और उनके बेटे अखिलेश यादव उनसे भी आगेहै, पिछले 5 सालों में अखिलेश यादव ने सैकड़ों मंदिर तोड़े मस्जिदों का निर्माण कराया ,मुसलमानों को खुश करने के लिए रोजा के महीने में हिंदुओं के मंदिरों की पूजा तक बंद करवा दी लाउडस्पीकर उतरवा दिए थे ,समाजवादी पार्टी का एकमात्र मकसद मुसलमानों को खुश करके उनका वोट पाना है और सत्ता पर राज करना है।
 
 
अखिलेश सरकार ने गाजियाबाद में 70 करोड़ में हज हाउस बनाया जो विश्व का सबसे बड़ा हज हाउस है,अलीगढ़ में 4 मस्जिद मस्जिद बनवाई, मुजफ्फरनगर में 2 मस्जिद बनवाई, सुल्तानपुर में एक आलीशान मस्जिद बनवाई है ,लखनऊ में 7 मस्जिद बनवाई, 2017 में जीतने तो यूपी में सभी जिलों में मस्जिद और मदरसे बनवाएंगे और मौलानाओं को ₹25000 महीने की तनख्वाह भी देंगे ।
 
अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश में 400 से ज्यादा कत्लखाने खुलवाए जिनमें प्रतिदिन 4 हजार से ज्यादा जानवर काटे जाते हैं ।उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव ने एक भी मंदिर तो बनवाया नहीं उल्ट हिंदुओं के मंदिरों को तोड़ा गया।
 
 
मेरठ में काली माता के मंदिर में घंटा  बजाना बंद करा दिया गया,  मेरठ में सात मंदिर तोड़ेगये, बनारस में 14 मंदिर तोड़गये, गाजीपुर में नौ मंदिर तोड़ेगये, बलिया में तीन मंदिर तोडेगये, उन्नाव में चार मंदिर तोड़ेगये, बस्ती में छह मंदिर तोड़ेगये,संत रविदास नगर में 4 मंदिरों को तोडा गया ,सुल्तानपुर में 34 मंदिरों को तोड़ा गया, सोनभद्र में पांच मंदिर को तोड़ा गया, सिद्धार्थ नगर में 9 मंदिरों को तोड़ा गया, संभल में छह मंदिर को तोड़ा गया ,शामली में चार मंदिर तोड़ा गया ,शाहजहांपुर में छह मंदिर को तोड़ा गया, सीतापुर में 11 मंदिर  को तोड़ा गया ,सहारनपुर में 15 मंदिरों को तोडा गया, रायबरेली में चार मंदिरों को तोडा गया, रामपुर में 13 मंदिरों को तोड़ा गया ,प्रतापगढ़ में 10 मंदिरों को तोडा गया ,पीलीभीत में तैरह मंदिर तोड़ा गया, मुजफ्फरनगर में 40 मंदिरों को तोड़ा गया, मथुरा 25 मंदिरों को तोड़ा गया ,मैनपुरी में तैरह मंदिरों को तोड़ गया ,मुरादाबाद में 25 मंदिर को तोड़ा गया, मिर्जापुर में मंदिर को तोड़ा गया,  महाराजा गंज में बीस मंदिर में तोड़ा गया,लखीमपुर खीरी में भी 15 मंदिरों को तोडा गया ललितपुर में सात मंदिर को तोड़ा गया, गाजियाबाद में पांच मंदिर को तोड़ा गया, गोरखपुर में 15 तोड़ा गया ,पडरौना में 30 मंदिरों को तोड़ा गया, मदनपुर में 30 मंदिर को तोड़ा गया, कासगंज में तीस मंदिर को तोड़ा गया, कानपुर में 29 मंदिर को तोड़ा गया, कन्नौज में 20 मंदिर को तोड़ा गया ,अकबरपुर में 10 मंदिरों को तोडा गया ,जौनपुर में 7 मदिर तोडागया, अमरोहा में तीन मंदिर तोड़ा गया, झांसी में 30 मंदिर तोड़े गए, हाथरस में 23 मंदिर तोड़े गए, हरदोई में 33 मंदिर तोड़े गई हमीरपुर में 15 मंदिर तोड़े गए,  श्रीपुर में 23 मंदिर को तोड़ा गए, गोंडा में 50 मंदिर को तोड़ागए ,नोएडा में 20 मंदिर तोड़ा गए,फैजाबाद में 30 मंदिर तोड़ेगये,फतेहपुर में 20 मंदिर को तोडेगये, फर्रुखाबाद में 20 मंदिर को तोड़ागया, फिरोजाबाद में 40 मंदिर तोड़ेगये, इलाहाबाद में 15 मंदिरों को तोड़ा गया,  चित्रकूट में 10 मंदिरों को तोड़ा गया, चंदौली में 20 मंदिर को तोड़ा गया, बुलंदशहर में 7 मंदिरों को तोड़ा गया,बस्ती में पांच मंदिर को तोड़ा गया, बरेली तीन मंदिर तोडेगए, बलरामपुर में तैरह मंदिर को तोड़ा गया,बांधा 12 मंदिर को तोड़ा गया,बलिया में 13मंदिर को तोड़ा गया, बहराइच में 3 मंदिरों को तोडा गया, बाराबंकी में 12 मंदिर को तोड़ा गया ,आजमगढ़ में 30 मंदिर को तोड़ा गया, ओरैया में 32 मंदिर को तोड़ागया, आगरा में 15 तोड़ेगये,अकबरपुर में 34 मंदिर तोड़ेगये, अलीगढ़ में चार मंदिर तोड़ेगये। 500 से अधिक हिंदू मंदिरों को तोड़ा गया इतने मंदिर तो शायद औरंगजेब ने भी नहीं तुड़वाये होंगे जो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सरकार ने तुड़वाये।
 
उत्तर प्रदेध में हुए मुजफ्फरनगर के दंगे में 64 हिंदु मारे गए थे। अलीगढ़ के दंगों में 73 हिंदुओं को मरवाया गया थे। आप खुद देखिए उत्तर प्रदेश में हिंदुओं के लिए अखिलेश सरकार मे आप खुद देखिए उत्तर प्रदेश में हिंदुओं के लिए अखिलेश सरकार ने कितना किया ।
 
चूँकि चुनावों की तारीखें नज़दीक या गयी हैं अतः हिंदुओं को लुभाने के लिए उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार तरह तरह के प्रलोभन दे मगर ये महज़ एक दिखावे के अलावा और कुछ नही।