राष्ट्र गान इस्लाम के खिलाफ है, स्कूल प्रिन्सिपल ज़ीया उल हक़ के अनुसार

Posted on Posted in Politics

राष्ट्रगान के नाम पे राजनीति होना कोई आम बात नही है मगर मियाँ ज़िया उल हॅक के लिए ये कोई नई बात नही है. वो ऐसा पिछले 12 साल से कर रहे हैं.

यह मामला है इलाहाबाद स्थित म. ए. कॉनवेंट स्कूल का जहाँ के मलिक ज़ीया उल हक़ ने पिछले 12 सालों से राष्ट्र गान पर प्रतिबंध लगा के रखा है. उन्हे राष्ट्र गान मे हुए “भारत” शब्द से ऐतराज है. उनके मुताबिक, राष्ट्रगान में भारत भाग्य विधाता का गान करना उनके मुताबिक इस्लाम के खिलाफ है, क्योंकि अल्लाह के सिवाय और कोई उनका भाग्य विधाता नहीं हो सकता है।

ma-convent-bans-national-anthem

यहां के एक स्कूल की प्रिंसिपल सहित 8 टीचर्स ने स्कूल में राष्ट्रगान पर बैन लगा देने पर रिजाइन दे दिया है। एमए कॉन्‍वेंट स्कूल के टीचर्स का कहना है कि राष्ट्रगान गाना उन्हें संविधान से दिया गया मूल अधिकार है, लेकिन स्कूल मैनेजमेंट ने जब उन्हें इसे गाने पर आपत्ति जाहिर की तो उन्होंने स्कूल छोड़ दिया।