चेतन भगत ने मोदी भक्तों को बोला ‘सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड’ देखिये चेतन भगत को हमारा जवाब!!

Posted on Posted in Entertainment, Politics
मशहूर लेखक और उपन्यासकार चेतन भगत ने एक और विवादित बयान दिया है। अपने बेबाक बयानों के लिए सुर्खियां बटोरने वाले चेतन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखे अपने एक आर्टिकल में खुद को उनका वफादार कहने वाले ‘अंध भक्तों’ को ‘सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड’ कहा है।
 
चेतन के मुताबिक ऐसे ‘मोदी भक्त’ अपनी खराब अंग्रेजी की वजह से महिलाओं को ‘रिझा’ नहीं पाते हैं। चेतन ने इस आर्टिकल में सोशल मीडिया पर मौजूद दक्षिणपंथी रुझान रखने वाले विचारधारा के ‘अंध समर्थकों’ पर निशाना साधा है। उनके मुताबिक ऐसे लोग इसकी ठीक से समझ भी नहीं रखते हैं।
 
लेकिन चेतन का यह कहना ट्वीटर पर कई लोगों को नागवार गुजरा है। इस बेस्ट सेलर लेखक पर अब इन्हीं लोगों ने हल्ला बोल दिया है जिनके बारे में उन्होंने कहा था कि ऐसे लोगों का परिचय अभी तक ‘ग्लोबलाइजेशन’ से ठीक से नहीं हो पाया है।
 
ट्विटर पर एक व्यक्ति ने लिखा है, ‘चेतन ने पहले इंग्लिश बोलने वाले एलीट क्लास पर हमला किया और अब वह गैर अंग्रेजी भाषी युवाओं पर हमला करके एलीट बनने की कोशिश कर रहे हैं।‘ हालांकि ऐसा नहीं है कि हर कोई उनकी खिंचाई ही कर रहा है, इस बीच ऐसे लोग भी ट्विटर पर मुखर हुए हैं जिन्होंने चेतन की उनके लेख के लिए तारीफ की है।
 
लेकिन चेतन को लेकर जिस बात पर लोग सबसे ज्यादा भड़के हुए हैं, वह मोदी भक्तों को ‘हीन भावना से ग्रसित भारतीय’ पुरुष कहना है और बकौल चेतन ये लोग अपनी खराब अंग्रेजी और पृष्ठभूमि को लेकर शर्मिंदा और सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड हैं।
 
 
चेतन ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा,
If u had a choice of keeping Modi as our leader but with less democracy, would u be ok with it?”
जिसके जवाब में करीब 10 हज़ार लोगों ने वोट किया और आश्चर्य की बात ये की उनमे से 55 प्रतिशत लोगों ने हाँ में जवाब दिया है
 
 

 
 
चेतन भगत की इस खीझ को देखकर पता चलता है कि नोटबंदी का कुछ असर तो उनपर ही हुआ है।चेतन के ट्वीट्स देखकर आप साफ़ पता लगा सकते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक कड़ा फैसला कितनी गहराई तक मार कर चुका है।
चेतन का मोदी समर्थकों को ‘सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड’ कहना सच में ये दर्शाता है कि खुद को अंग्रेजी का प्रखर वक्ता समझने वाले चेतन भगत को सही शब्दों का चयन करने की भी तमीज़ भर नही है।
इसको कहते हैं “ज़्यादा पढ़े लिखे लोगों का गवारपन!”
हर पार्टी और नेता के कुछ समर्थक होते हैं,मगर चूंकि आप उन्हें पसंद नही करते इसके लिए उन्हें ‘सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड’ बोलना सच में पढ़े लिखे गवारों की पहचान है।वैसे चेतन भगत ‘नच बलिये’ जैसे टीवी रियलिटी शो भी जज कर चुके हैं जहाँ आये दिन प्रतिभागियों से उनकी झड़प हो जाती थी।