मिथुन चक्रवर्ती का ममता बनर्जी पर आरोप,कहा सांसद तो बना दिया मगर डायलाग नही दिए!

Posted on Posted in Politics
बॉलीवुड अभिनेता और टीएमसी पार्टी से राज्यसभा सांसद मिथुन चक्रवर्ती ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफे की वजह मिथुन की खराब स्वास्थ्य बताई जा रही है.
 
दरअसल मिथुन चक्रवर्ती ने पिछले हफ्ते ही सांसद पद से इस्तीफा देने का संकेत दे दिया था. मिथुन पिछले काफी दिनों से बीमार हैं और उनका इलाज भी चल रहा है. बीमारी की वजह से वो लगातार राज्यसभा की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले पा रहे थे.
 
वहीं तृणमूल कांग्रेस ने भी मिथुन चक्रवर्ती के इस्तीफे की पुष्टि कर दी है. पार्टी के प्रवक्त डेरेक ओब्रायन ने बताया कि खराब सेहत की वजह से मिथुन ने इस्तीफा दे दिया है. साथ ही उन्होंने मिथुन को जल्द ठीक होने की कामना की. टीएमसी नेता ने कहा कि भविष्य में मिथुन से पार्टी के रिश्ते बने रहेंगे. हालांकि इस्तीफे को लेकर मिथुन की तरफ से कोई बयान नहीं आया है.
 
गौरतलब है कि मिथुन चक्रवर्ती का नाम चर्चित शारदा घोटाला में भी उछाला गया था, वो शारदा ग्रुप के ब्रांड एंबेसडर थे. उन्हें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पूछताछ के लिए नोटिस भी भेजा था. तभी से ये कयास लगाए जा रहे थे कि मिथुन राजनीति से दूर रहना चाहते हैं. शारदा स्कैम में नाम आने के बाद मिथुन ने इस्तीफे की पेशकश की थी. मिथुन चक्रवर्ती की राज्यसभा की सदस्यता की अवधि अप्रैल 2020 तक थी. लेकिन उन्होंने बीच में ही पद से इस्तीफा दे दिया.
 
अंदर की बात ये है कि मिथुन चक्रवर्ती एक फ़िल्मकार और कलाकार हैं जिन्हें ममता बनर्जी ने सिर्फ ‘स्टार पावर’ बढ़ाने के लिए रखा था।मिथुन चक्रवर्ती का ये भी कहना है कि ममता बनर्जी ने उन्हें सांसद तो बना दिया लेकिन कोई डायलाग नही दिया।
 
ये नाराज़गी साफ़ ज़ाहिर करती है कि ममता बनर्जी सिर्फ कुछ ख़ास लोगो को ही आपने आसपास रखती हैं जी उनकी हाँ में हाँ मिलाते रहें।
 
ये घटना ममता बनर्जी के एकतरफा रवैय्या का एक और बड़ा नमूना है।