घर घर से कलाम निकले. जब भी जान निकले वतन के नाम निकले.

Posted on Posted in Politics

आज भारत के पुर्व राष्ट्रपति DR. APJ अब्दुल कलाम की पुण्या तिथि है. इस अवसर पर हम उन्हे सादर नमन करते हैं. और सिर्फ़ आज ही के दिन ही नही, इस महान हस्ती का नमन प्रत्येक भारतवासी आजीवन करते रहेंगे. क्योकि जो कुछ इन्होने हमारे देश के लिए किया है वो सराहनिया ही नही है बल्कि आभार योग्य भी है.

हम चाहते हैं की

“घर घर से कलाम निकले. जब भी जान निकले वतन के नाम निकले.”

 

गर्व है हमे भारतिया होने पे. गर्व है हमें कलाम जैसे भारतिया महान शक्शियत पर.

उनकी महानता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा  सकता है की जब डॉ कलाम जब DRDO में वैज्ञानिक थे तो किसी बिल्डिंग की सुरक्षा के लिए उसकी बाहरी दीवारों के उपर कांच के टुकड़े लगाने का सुझाव आया। पर उन्होंने इसे ये कहते हुए मना कर दिया कि ऐसा करने से चिड़ियों को चोट पहुँच सकती है।

Kalam said No to broken glass on walls
Kalam said No to broken glass on walls

आइए कलाम साहब के सफ़र की कुछ झलकियाँ देखते हैं इस वीडियो मे और उन्हे नमन करते हैं.
जय हिंद वन्दे मातरम||

 

One thought on “घर घर से कलाम निकले. जब भी जान निकले वतन के नाम निकले.

Comments are closed.