कश्मीर में पत्थर फेंकने वाले पाकिस्तान की कठपुतली हैं.

Posted on Posted in Politics

arun-jaitley-on-stone-pelters

जम्मू-कश्मीर के विपक्षी नेताओं ने घोषणा की है कि वे राज्य में चल रही अशांति पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार की सुबह बैठक करेंगे , इसके जवाब में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने घाटी में पत्थर फेकने वालों को पाकिस्तान के हाथ की कठपुतली कहा और कहा की पाकिस्तान की ओर से हमले का नया रूप है भारत की एकता और अखंडता पर।

सांबा जिले में सामैलपुर में एक तिरंगा यात्रा रैली में बोलते हुए – यह पंडित प्रेमनाथ डोगरा का जन्मस्थान है जो प्रजा परिषद की स्थापना की और भारतीय संघ के साथ जम्मू-कश्मीर के पूर्ण एकीकरण के लिए अभियान चलाया – जेटली ने कहा कि अलगाववादियों और हिंसा में लिप्त लोगों के साथ ” कोई समझौता नहीं हो” ।

 

प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दलों का नाम लिए बिना जेटली ने कहा कि “संकीर्ण दृष्टि ‘ वाले कुछ लोगों को सिर्फ  पत्थर फेकने वाले दिखाई देते हैं , उन्हें नतो अस्पतालों में घायल पुलिसकर्मियों और नाही सुरक्षा कर्मियों दिखाई देते हैं । “वे हमलावर हैं सत्याग्रही नहीं । जब 2000 लोग 10000 पत्थर लेकर पुलिस चौकी पर हमला करते हैं तो वो हमलावर है । लेकिन कुछ लोगों को यह समझ में नहीं आता । “